कुछ बातें ……………

कुछ बातें तू भूल जाये,
कुछ बातें मुझे भी,
ना याद रहे,
तो ये दूरी,
यूं ही मिट जाये,
कुछ बातें ………………………..
कुछ साथ बिताये हुए पल,
तेरे जहन में हो,
कुछ यादें मेरे,
मन में हो,
तो ये खाई,
यूं ही पट जाये,
कुछ बातें ………………………..
कुछ भरोसा,
तेरे नयन में हो,
कुछ गलत-फहमियां,
मुझ में ही दफन हो,
तो मेरी और तेरी,
जिन्दगी की राहें,
फिर से मिल जाये,
कुछ बातें ………………………..
कुछ कदम,
तू बढ़ाये मेरी तरफ,
चलूं थोड़ा मैं भी,
तेरी तरफ,
तो ये फासले,
यूं ही मिट जाये,
कुछ बातें ………………………..

ऐ ज़िन्दगी …………………….

ऐ ज़िन्दगी,
तुझसे जवाब चाहिये,
कुछ बीते हुऐ,
लम्हों का हिसाब चाहिये,
है चाहत बस,
छोटी सी मेरी,
कि जो गुज़र गये,
इस दुनिया से,
मेरे अपने,
बस कुछ पल के लिये,
उनका साथ उधार चाहिये,
ऐ ज़िन्दगी …………………….
बहुत पढ़ ली,
मोटी मोटी किताबें,
बड़े बड़े ग्रन्थ,
उलझ गयी है,
ज़िन्दगी झमेलों में,
क्या है इन सबका अर्थ,
अब जीवन को,
खुशियों की किताब चाहिये,
ऐ ज़िन्दगी …………………….

प्यार के सफ़र पर …………

प्यार के सफ़र पर,
चल निकला हूं,
पहले था बर्फ,
मन मेरा,
तुम से मिलने के बाद,
थोड़ा पिघला हूं,
सोचता हूं कभी,
कि पहले क्या था,
अब क्या हूं,
तुमसे मोहब्बत के बाद,
बहुत बदला हूं,
प्यार के सफ़र पर …………
राह बहुत,
खूबसूरत है,
तेरे प्यार की,
साथ हम चलते रहे,
एक दूजे के,
कभी जरुरत न हो,
इंतजार की,
हूं हमेशा साथ तेरे,
मैं वो काफिला हूँ,
प्यार के सफ़र पर …………

कुछ लफ्ज़ …………………….

कुछ लफ्ज़ आज,
चुन रहा हूं,
ज़िन्दगी की किताब से,
तेरे नाम,
चमक रहे हैं इस में,
माहताब से,
पलट रहा हूं कागज,
कुछ तेरी यादों के,
कुछ पल हैं इस में,
तेरे लिए बेताब से,
कुछ लफ्ज़ …………………….
रात के अँधेरे में भी,
रोशन कर दी है,
तूने दुनिया मेरी,
तू है बहुत अहम,
तुमसे ही ये,
किताब है पूरी,
इसी लिए,
तेरे नाम का हर्फ,
पढ़ रहा हूँ,
बहुत हिसाब से,
कुछ लफ्ज़ …………………….

खुमार तेरा ……………….

खुमार तेरा,
कुछ यूं चढ़ा है,
मुझ पर,
कि उतर ही,
ना पाया है,
लड़खड़ाता हूँ,
बहकता हूँ,
तेरे प्यार में,
मैंने ये जहां,
भुलाया है,
तू मुझसे,
कुछ यूं जुड़ी है,
कि तूने ही मुझे,
इश्क का जाम,
पिलाया है,
खुमार तेरा ……………….
दिल दिया है तुझे,
जान भी,
कर दी तेरे नाम,
पाया है मैंने तुमको,
पर खुद को,
गवांया है,
खुमार तेरा ……………………

सामने इन्कार ……..

सामने इन्कार,
पर दिल में तो,
है प्यार,
खामोश हो जाता हूं,
सामने तेरे आते ही,
और दिल में बजती है,
तेरी झनकार,
सामने इन्कार …………………..
पास से तेरे,
बड़े सलीके से,
गुजरता हूँ,
दूर होते ही,
तेरी यादों में,
बहकता हूं,
मुझ पर तो,
तेरी पहली मुलाकात से ही,
चढा हुआ है,
प्यार का खुमार,
सामने इन्कार …………………..
कब तक छुपाऊंगा,
दर्द-ए-दिल तुमसे,
जी चाहता है,
कर लूं तुमसे,
जिन्दगी का करार,
सामने इन्कार …………………..

hits counter