सांस भी ……………………….

सांस भी तब आती है,
जब तेरी याद आती है,
तेरी बात दिल में मेरे,
होले से ही,
प्यार का गीत,
लिख जाती है,
सपनो में आ,
तू मेरे बार बार,
तेरी शरारत,
मुझे नींद में भी,
महसूस हो जाती है,
सांस भी ……………………….
अभी है दरम्यान,
कुछ दूरी,
आ जा तू करीब,
कर दे मेरी ज़िन्दगी पूरी,
तेरी याद हर पल,
मुझे प्यार का,
गीत सुनाती है,
सांस भी ……………………….
याद आती है,
बातें तेरी,
इंतजार में कटती है,
रातें मेरी,
तेरी बात मुझे,
खामोशी में भी बहलाती है,
सांस भी ……………………….

तुमसे ही ……………………..

तुमसे ही मेरा,
वजूद है,
तू दिखती है,
मुझे हर जगह,
जैसे तू हर कहीं,
मौजूद है,
तुमसे ही सीखा है,
जीना मैंने,
तुमसे ही मेरी,
ज़िन्दगी की डोर मजबूत है,
तुमसे ही ……………………..
मैंने तेरे लिये,
सब वारा है,
मेरा सब कुछ,
तुम्हारा है,
मुझ पर सिर्फ तेरा,
हकूक है,
तू मेरी ज़िन्दगी की गवाही,
तू ही इस का सबूत है,
तुमसे ही ……………………..
साया तेरा इतना पाक है,
इस के करीब होते ही,
उजली सी मेरी हयात है,
तुमसे ही ज़िन्दगी मेरी,
हर परेशानी से,
महफूज है,
तुमसे ही ……………………..

ज़माना बदल गया है …………..

जमीन है छोटी सी,
आसमान भी सिकुड़ गया है,
रेत के धोरों में है ठंडक,
बर्फ का ढेला भी,
पिघल गया है,
ये इस बात का है सबूत,
कि ज़माना बदल गया है ………….
कहानियों में,
किरदार हैं खो गए,
वक्त में से,
पल पल गया है,
किस्से हो गए हैं पुराने,
एक फसाना चल गया है,
ये इस बात का है सबूत,
कि ज़माना बदल गया है …………..
पास होकर भी,
दूर रहते हैं लोग,
बस कहने को ही,
फोन की मदद से,
दूर होकर भी,
पास रहते हैं लोग,
अब सबको अपना अपना,
रास्ता मिल गया है,
ये इस बात का है सबूत,
कि ज़माना बदल गया है ………………

एक छोटे से ………………….

एक छोटे से,
सवाल पर,
क्यों हुआ इतना बवाल,
बात छोटी सी जो पूछी,
तो लोग,
क्यों हुए बेहाल,
लोग चाहते हैं,
मैं उनकी किसी बात का,
जवाब न दूं,
और पूछता रहूं,
उनकी ज़िन्दगी के हाल,
एक छोटे से ………………….
मुझे ज्यादा बोलने की,
आदत तो है नहीं,
मैं बस काम की ही,
बात करता हूं,
इसी लिए कभी न कभी,
मेरी किसी न किसी बात पर,
होता है कमाल,
एक छोटे से ………………….
मैं ठोक बजा कर ही,
बात करता हूं,
मुझे मेरी किसी बात का,
नहीं है कोई मलाल,
एक छोटे से ………………….

hits counter