खुदा ने …………………………

खुदा ने बड़ी फुर्सत से,
तुझे बनाया है,
तेरे काले बाल,
जैसे सावन के,
बादलों की छाया है,
आंखो में तेरी,
मैं डूब जाता हूं,
जैसे ये मय का प्याला है,
खुदा ने …………………………
आफताब भी जैसे तेरा,
एक सरमाया है,
माहताब भी जैसे तेरी,
आंख का एक तारा है,
तेरे बालों पर,
पानी की एक बूंद,
जैसे समन्दर का किनारा है,
खुदा ने …………………………
तू चलती है ऐसे,
जैसे बहती जल की धारा है,
तेरे हुस्न की चमक,
जैसे कोहिनूर का हीरा है,
खुदा ने …………………………

तू मेरी ………..

तू मेरी ज़िन्दगी का,
हर पल है,
तुमसे ही आज,
तू ही मेरा कल है,
मैं हूं समन्दर,
तू जल है,
ज़िन्दगी नहीं है आसान,
तेरे बिन,
मेरी ज़िन्दगी है मुश्किल,
तू उस का हल है,
तू मेरी ……………………..
ज़िन्दगी है सागर का साज,
मैं हूं तैरता जहाज,
तू साहिल है,
तेरी बातें,
हिलोरें मारती लहर है,
तू करती कल-कल है,
तू मेरी ……………………..
ज़िन्दगी में मेरी,
तूने मचायी हल-चल है,
तेरे साथ ही,
मेरा जीवन सफल है,
तू मेरी ……………………..

hits counter