बिन तेरे ……………………..

बिन तेरे ज़िन्दगी में,
अंधेरे हैं,
जाने कहाँ खो गये,
खुशियों के सवेरे हैं,
दिखाई देती नहीं,
ज़िन्दगी की मंजिल तेरे बिन,
अब बस तेरी राह,
ताकती रहती,
मेरी नज़रें हैं,
बिन तेरे ……………………..
कहा जाऊं,
तुझे भुला कर,
हर जगह तू ही,
आती है नज़र,
आंखो में मेरी,
कई लम्हे तेरे हैं,
यादों में मेरी,
तेरे ही बसेरे हैं,
बिन तेरे ……………………..
अकेला ही चल रहा हूं,
ज़िन्दगी की राहों में,
भटकता फिर रहा हूँ,
जीवन के किनारों में,
ऐसा लगता है जैसे,
खो गये ज़िन्दगी के,
सहारे हैं,
बिन तेरे ……………………..

hits counter