कल का सूरज …………….

कल का सूरज,
एक नयी रौशनी लेकर अायेगा,
उम्मीद है कि,
एक नयी किरण,
दिल में जगायेगा,
ना-उम्मीदों को पीछे छोड़,
उम्मीद की एक लौ,
मन में जलायेगा,
कल का सूरज …………………….
आने वाला कल,
दु:खों के पहाड़ों को तोड़कर,
नीला आसमान दिखायेगा,
कल का दिन,
जीवन में,
एक नयी उमंग लायेगा,
कल का सूरज …………………….
इस सफर में वैसे तो,
अकेले ही चले हैं,
पर उम्मीद है,
कल इस सफर में,
कारवां जुड़ जायेगा,
कल का सूरज …………………….
उम्मीद है कल,
एक नया सवेरा आयेगा,
गम के अंधेरों को,
दूर भगायेगा,
आज तो आसमान में,
काले बादल हैं,
मुझ पर ना-उम्मीदों का साया है,
उम्मीद है, कल आासमान,
उम्मीद की बारिशें बरसायेगा,
कल का सूरज ……………………..

आशा …………….

आशा के पथ पर,
चला ले तू,
अपनी जिन्दगी का रथ,
जो चाहता है तू,
वो मिलेगा तुझे,
थोड़ा होसला तो रख,
सोचता है तू कभी,
कि हो जायेगा नाकाम,
क्यों करता है तू,
खुद पर इतना शक,
आशा ………………….
तू चलता रह,
यूं ना थक,
तू एक पल भी,
ना डिगाना,
राह से अपने पग,
मजबूर हो जायेगी,
मंजिल भी,
पायेगा तू वो,
जो है तेरा हक,
आशा ……………………..

जब मुश्किल ………..

जब मुश्किल आती है,
तब दिल में,
दीया जलाना पड़ता है,
उम्मीद की लौ,
दिल में जलाने से,
अंधेरा कहां बचता है,
तू रूकना नहीं,
ना ही तू थकना,
हिम्मत की आग,
तू दिल में,
जलाकर रखना,
बस उम्मीदों से ही,
दिल में सवेरा जगता है,
जब मुश्किल………………
डट कर खड़ा,
हो जाये अगर तू,
सामने मुसीबत के,
तो परेशानी का पहाड़ भी,
टूट पड़ता है,
कोशिश करते रहने से,
वक्त जरूर बदलता है,
जब मुश्किल………………..

Possible तो …………

Possible तो,
हो ही जायेगा,
impossible को ठानो,
दुनिया में तुम,
अपनी राह पहचानो,
न चलो तुम,
जमाने की तरह,
एक ही राह में,
बनाओ नए रास्ते,
ढूँढो कुछ अलग,
तुम हर काम में,
बस अपने दिल की आवाज,
एक बार तो जानो,
Possible तो …………………….
सोचो कुछ ऐसा जो,
कुछ हट कर हो,
चाहो कुछ ऐसा जो,
तुम्हारे ही बस में हो,
कोई ओर न कर पाये,
तुम्हारे अलावा,
जिस काम को,
तुम वो काम चाहो,
बस मेरी,
ये एक बात मानो,
Possible तो ………………………

मुट्ठी में तेरी………………

मुट्ठी में तेरी,
हर बात होगी,
कामयाबी के लिये,
तू बन जा जोगी,
तपा ले खुद को,
मुश्किलों की अगन में,
भर ले उड़ान,
बाज़ की तरह,
तू इस गगन में,
बस हार न मानना,
एक दिन,
तू जरूर बनेगा सुखभोगी,
मुट्ठी में तेरी………………
ज़िन्दगी खेल है,
शतरंज का,
शह और मात से,
ना घबराना कभी,
आखिर में,
हक़ में तेरे,
हर बिसात होगी,
मुट्ठी में तेरी…………………….

भर ले तू …………

भर ले तू ऊँची उड़ान,
छू ले ये आसमान,
अपनी ख्वाहिशों को,
चढ़ा दे तू परवान,
तू है देश की शान,
भर ले तू …………………
लगा दे दौड़,
भर कर ऊँचे पग,
चमका कर अपना सितारा,
जगमगा दे तू ये जग,
तेरे लिए आराम है हराम,
भर ले तू ……………………..
पसीना तू बहा,
तू जा वहीं,
तेरी मंजिल है जहां,
जोश और जूनून से,
तू मुश्किलें हरा दे तमाम,
भर ले तू ……………………
तू कर ले सबसे होड़,
तू सबको पीछे छोड़,
तू दम लगा कर दोड़,
दे तू जिन्दगी को,
एक अलग मोड़,
जज़्बे से,
तू कर दे,
मुश्किलो को आसान,
भर ले तू ……………………..

तू खो न ……………

तू खो न,
यूं जज़्बा तेरा,
तू जान ले,
इस दुनिया में,
रास्ता तेरा,
तू हिम्मत से,
राहें तय करेगा अगर,
तो जमीन तेरी,
आसमान भी तेरा,
तू खो न ……………………
हौसले से राहों के,
फासले मिट जाएंगे,
घटाऔं से गर्मी के,
दिन भी तर जाएंगे,
तू बस एक बार,
उम्मीद से जगमगा,
चेहरा तेरा,
तू खो न ……………………
जो तेरा मन कहे,
तू कर वो काम,
हटा दे तू,
दिमाग से,
दुनिया की बातों के ताम-झाम,
बांध ले तू,
खुद के चेहरे पर,
उम्मीदों का सेहरा,
तू खो न ……………………

जोश है ………….

जोश है जवानी का,
उफान तो मारेगा ही,
जो आज मन में ठान लिया,
एक दिन उस को,
ये पाएगा ही,
जिस मंजिल को,
इस दिल ने चुन लिया,
उस दर पर ये जाएगा ही,
जोश है ……………………..
शिद्दत तो मन में इतनी है,
कि इक दिन चाँद तारों को,
जमीन पर तोड़ लाएगा ही,
मंजिल चाहे कितनी भी,
दूर क्यों न हो,
एक दिन ये,
मंजिल को पाएगा ही,
आज तो कांटो भरी राह पर,
चल रहे हैं हम,
पर मन का राही,
एक दिन,
खुशनुमा मोड़ को पाएगा ही,
जोश है ………………………
जवानी में जमाने से,
कुछ हट के करने में,
दिक्कतें आती हैं बहुत,
पर ये मन एक दिन,
कामयाबी का स्वाद चखेगा ही,
जोश है ……………………..
भले ही आज दुनिया में,
गुमनाम जीते हो हम,
पर ये मन अपनी,
हिम्मत से एक दिन,
दुनिया में नाम कमाएगा ही,
जोश है ……………………

हर कामयाबी …………….

हर कामयाबी के पीछे,
थोड़ी नाकामी होती है,
हर खुशी के पीछे,
थोड़ी परेशानी होती है,
दुनिया की रीत ही,
ऐसी है,
कि सबका साथ होते हुए भी,
थोड़ी बेगानी होती है,
हर कामयाबी …………………..
हम चाहते कुछ और हैं,
मिलता कुछ और है,
हम डूबे होते हैं खुशी में,
फिर भी दिल के समंदर में,
जाने क्यों शोर है?
लगता है,
ज़िन्दगी के पीछे,
छुपी हुई कोई,
कहानी होती है,
हर कामयाबी ……………………
यूं ही नहीं मिल जाता,
कुछ भी इस दुनिया में,
मेहनत का पानी,
बहाना पड़ता है,
ये पसीना ही,
जिंदगी में लगे हुये,
जख्मों की निशानी होती है,
हर कामयाबी ………………….

कुछ लोग ………………

कुछ लोग,
बहुत कुछ पाने के लिये,
कुछ छोड़ दिया करते हैं,
कुछ लोग,
बहुत कुछ हासिल करने के लिये,
कुछ गंवा दिया करते हैं,
ये वो लोग होते हैं,
जिन्हें जमाने की,
परवाह नहीं होती,
ये लोग तो अपने उसूलों पर,
जिया करते हैं,
कुछ लोग …………………..
बहुत से लोग तो ऊपर उठने की,
कोशिश ही नहीं करते,
उपर उठने वालों को भी,
नीचे गिरा देते हैं,
पर कुछ लोग,
बहुत ऊपर उठने के लिये,
थोड़ा झुक जाया करते हैं,
कुछ लोग …………………
बहुत से लोग तो,
आगे बढ़ने की,
कोशिश ही नहीं करते,
आगे बढ़ने वालों की,
राह में भी,
कांटे बिछा देते हैं,
पर कुछ लोग बहुत आगे,
बढ़ने के लिये,
थोड़ा पीछे,
हट जाया करते हैं,
कुछ लोग ……………………..

1 2

hits counter